बाइबिल ऑनलाइन

कई भाषाओं में बाइबिल

आपकी पसंद की भाषा में लिंक (नीले रंग में), आपको उसी भाषा में लिखे गए एक अन्य लेख पर निर्देशित करते हैं। अंग्रेजी में लिखे गए ब्लू लिंक, आपको अंग्रेजी में एक लेख के लिए निर्देशित करते हैं। इस मामले में, आप तीन अन्य भाषाओं में से चुन सकते हैं: स्पेनिश, पुर्तगाली और फ्रेंच।

English  Español  Português  Français  Català  Românesc  Italiano  Deutsch

Polski  Magyar  Hrvatski  Slovenský  Slovenski  český  Shqiptar  Nederlands

 Svenska  Norsk  Suomalainen  Dansk  Icelandic  Lietuvos  Latvijas  Eesti

עברי  ייִדיש  ქართული  ελληνικά  հայերեն  Kurd  Azərbaycan  Türk  العربية  فارسی     

Pусский  Yкраїнський  Македонски  Български  Монгол  беларускі  Қазақ  Cрпски                 

Hausa  Swahili  Afrikaans  Igbo  isiXhosa  Yorùbá  Zulu  አማርኛ  Malagasy  Soomaali

   हिन्दी  नेपाली  বাঙালি  ਪੰਜਾਬੀ  தமிழ்  中国  ไทย  ខ្មែរ  ລາວ  Tiếng việt  日本の  한국의

Tagalog  Indonesia  Malaysia  Jawa  Myanmar 

मसीह स्मृति का  की मृत्यु की स्मृति का उत्सव

"इसलिए कि हमारे फसह का मेम्ना, मसीह बलि किया जा चुका है"

(१ कुरिन्थियों ५: ७)

यह तारीख यहूदी कैलेंडर के १४निसान के दिन की शुरुआत का प्रतिनिधित्व करती है (The Reality of the Law)। निसान का पहला दिन "नया चाँद" से मेल खाता है (इस वर्ष २३ मार्च (सूर्यास्त के बाद) / २४ मार्च, २०२०) से मेल खाता है। यह चन्द्रमा के कुल लुप्त होने का प्रतिनिधित्व करता है, पूर्णिमा की पूर्णता के अनुसार, स्तोत्र ८१:३के अनुसार: "नए चाँद के मौके परऔर पूरे चाँद के अवसर पर, हमारे त्योहार के दिन नरसिंगा फूँको" (Lunisolar Year) (ऊपर फोटो देखें)। नतीजतन, इसका उपयोग स्मारक की तारीख की गणना करने के लिए किया गया था। वर्ष 2020: 14 निसान (बाइबिल माह) के लिए ईसा मसीह की मृत्यु की स्मृति के उत्सव की तिथि रविवार, 5 अप्रैल, 2020 को सूर्यास्त के बाद (बाइबिल के मापदंड के अनुसार) शुरू होगी। साइट लिंक http://pgj.pagesperso-orange.fr/calendar.htm (फ्रेंच में)), आपको सटीक चंद्र खगोलीय कैलेंडर (उल्लेख एनएल (न्यू मून के लिए) के साथ) की जांच करने की अनुमति देता है।

- फसह मसीह की मृत्यु के स्मृति के उत्सव के लिए दिव्य आवश्यकताओं का मॉडल है: "क्योंकि ये सब आनेवाली बातों की छाया थीं+ मगर हकीकत मसीह की है" (कुलुस्सियों २:१७)। "कानून आनेवाली अच्छी बातों की बस एक छाया है, मगर असलियत नहीं" (इब्रानियों १०:१) (The Reality of the Law)।

- केवल खतना करने वाले ही फसह: "तुम्हारे बीच रहनेवाला कोई परदेसी अगर यहोवा के लिए फसह मनाना चाहता है, तो उसे अपने घराने के सभी लड़कों और आदमियों का खतना कराना होगा। ऐसा करने पर वह पैदाइशी इसराएलियों के बराबर समझा जाएगा और तभी वह फसह का त्योहार मना सकेगा। मगर कोई भी खतनारहित आदमी फसह का खाना नहीं खा सकता" (निर्गमन १२:४८) मना सकते थे।

- ईसाई अब शारीरिक खतना के दायित्व के तहत नहीं हैं। उसकी खतना आध्यात्मिक हो जाती है: "अब तुम लोग अपने दिलों को शुद्ध करो और ढीठ बनना छोड़ दो" (शुद्ध करो:“का खतना करो।”) (व्यवस्थाविवरण १०:१६ प्रेरितों के काम १५:१९,२०,२८,२९ "अपोस्टोलिक डिक्री", रोमियों १०:४ "मसीह है कानून का अंत ")।

- हृदय की आध्यात्मिक खतना का अर्थ है ईश्वर और उसके पुत्र ईसा मसीह का आज्ञापालन: "तेरे लिए खतना+ तभी फायदेमंद होगा जब तू कानून को मानता हो। लेकिन अगर तू कानून तोड़ता है, तो तेरा खतना, खतना न होने के बराबर है।  इसलिए अगर एक इंसान, खतनारहित होते हुए भी कानून में बतायी परमेश्‍वर की माँगें पूरी करता है, तो क्या उसका खतना न होना, खतना होने के बराबर नहीं समझा जाएगा?  वह इंसान जो शरीर से खतनारहित है वह कानून पर चलकर तुझे दोषी ठहराता है, क्योंकि तेरे पास लिखित कानून है और तेरा खतना हुआ है फिर भी तू कानून पर नहीं चलता। क्योंकि यहूदी वह नहीं जो ऊपर से यहूदी दिखता है, न ही खतना वह है जो बाहर शरीर पर होता है।  मगर असली यहूदी वह है जो अंदर से यहूदी है और असली खतना लिखित कानून के हिसाब से होनेवाला खतना नहीं बल्कि पवित्र शक्‍ति के हिसाब से होनेवाला दिल का खतना है। ऐसा इंसान लोगों से नहीं बल्कि परमेश्‍वर से तारीफ पाता है" (रोमियों २:२५-२९) (बाइबिल के शिक्षण)।

- आध्यात्मिक गैर खतना ईश्वर और उसके पुत्र ईसा मसीह के प्रति अवज्ञा का प्रतिनिधित्व करता है: "अरे ढीठ लोगो, तुमने अपने कान और अपने दिल के दरवाज़े बंद कर रखे हैं। तुम हमेशा से पवित्र शक्‍ति का विरोध करते आए हो। तुम वही करते हो जो तुम्हारे बाप-दादा करते थे।  ऐसा कौन-सा भविष्यवक्‍ता हुआ है जिस पर तुम्हारे पुरखों ने ज़ुल्म नहीं ढाए? हाँ, उन्होंने उन लोगों को मार डाला जिन्होंने पहले से उस नेक जन के आने का ऐलान किया था। और अब तुमने भी उसके साथ विश्‍वासघात किया और उसका खून कर दिया।  हाँ तुमने ही ऐसा किया। तुम्हें स्वर्गदूतों के ज़रिए पहुँचाया गया कानून मिला, मगर तुम उस पर नहीं चले" (प्रेषितों के काम  ७:५१-५३) (बाइबिल के शिक्षण (बाइबिल में निषिद्ध))

- मसीह की मृत्यु के "स्मरणोत्सव" में भागीदारी के लिए दिल की आध्यात्मिक खतना आवश्यक है  (ईसाई आशा (स्वर्गीय या सांसारिक) की परवाह किए बिना): "एक आदमी पहले अपनी जाँच करे कि वह इस लायक है या नहीं, इसके बाद ही वह रोटी में से खाए और प्याले में से पीए” (१ कुरिन्थियों ११:२८)।

- मसीह की मृत्यु के "स्मरणोत्सव" में भाग लेने से पहले ईसाई को "विवेक की परीक्षा" करनी चाहिए। यदि वह मानता है कि भगवान के सामने उसकी शुद्ध अंतरात्मा है, कि उसके पास आध्यात्मिक खतना है, वह मसीह की मृत्यु के "स्मरणोत्सव" में भाग ले सकता है (चाहे वह स्वर्गीय हो या सांसारिक आशा) (Heavenly Resurrection; Earthly Resurrection; The Great Crowd)।

- मसीह की यह आज्ञा, जो सभी वफादार मसीहियों को संबोधित की जाती है: "मैं जीवन देनेवाली रोटी हूँ।  तुम्हारे पुरखों ने वीराने में मन्‍ना खाया था, फिर भी वे मर गए।  मगर जो कोई इस रोटी में से खाता है जो स्वर्ग से उतरी है, वह नहीं मरेगा।  मैं वह जीवित रोटी हूँ जो स्वर्ग से उतरी है। अगर कोई इस रोटी में से खाता है तो वह हमेशा ज़िंदा रहेगा। दरअसल जो रोटी मैं दूँगा, वह मेरा शरीर है जो मैं इंसानों की खातिर दूँगा ताकि वे जीवन पाएँ।”  तब यहूदी एक-दूसरे से बहस करने लगे, “भला यह आदमी कैसे अपना शरीर हमें खाने के लिए दे सकता है?” तब यीशु ने उनसे कहा, “मैं तुमसे सच-सच कहता हूँ कि जब तक तुम इंसान के बेटे का माँस न खाओ और उसका खून न पीओ, तुममें जीवन नहीं।  जो मेरे शरीर में से खाता है और मेरे खून में से पीता है, वह हमेशा की ज़िंदगी पाएगा और मैं आखिरी दिन उसे ज़िंदा करूँगा।  इसलिए कि मेरा शरीर असली खाना है और मेरा खून पीने की असली चीज़ है। जो मेरे शरीर में से खाता है और मेरे खून में से पीता है, वह मेरे साथ एकता में बना रहता है और मैं उसके साथ एकता में बना रहता हूँ।  ठीक जैसे जीवित पिता ने मुझे भेजा है और मैं पिता की वजह से जीवित हूँ, वैसे ही जो मुझमें से खाता है वह भी मेरी वजह से जीवित रहेगा।  यह वह रोटी है जो स्वर्ग से नीचे उतरी है। यह वैसी नहीं जैसी तुम्हारे पुरखों ने खायी, फिर भी मर गए। जो इस रोटी में से खाता है, वह हमेशा ज़िंदा रहेगा" (जॉन ६:४८-५८)।

- इसलिए, सभी वफादार ईसाई, जो भी उनकी आशा, स्वर्गीय या पृथ्वी पर, मसीह की मृत्यु के स्मरणोत्सव से रोटी और शराब लेने के लिए आवश्यक हैं, यह एक आज्ञा है: " तब यीशु ने उनसे कहा, “मैं तुमसे सच-सच कहता हूँ कि जब तक तुम इंसान के बेटे का माँस न खाओ और उसका खून न पीओ, तुममें जीवन नहीं। (...) ठीक जैसे जीवित पिता ने मुझे भेजा है और मैं पिता की वजह से जीवित हूँ, वैसे ही जो मुझमें से खाता है वह भी मेरी वजह से जीवित रहेगा"(जॉन ६:५३,५७) (The Memorial of the Death of Jesus Christ (Slideshow); Jesus Christ the Only Path) (KING JESUS CHRIST)।

- मसीह की मृत्यु का स्मरण केवल मसीह के वफादार अनुयायियों के बीच मनाया जाना है: "इसलिए मेरे भाइयो, जब तुम इसे खाने के लिए इकट्ठा होते हो, तो एक-दूसरे का इंतज़ार करो" (१ कुरिन्थियों ११:३३) (IN CONGREGATION)।

- यदि आप मसीह की मृत्यु के उपलक्ष्य में भाग लेना चाहते हैं और आप ईसाई नहीं हैं, तो आपको बपतिस्मा लेना चाहिए, ईमानदारी से मसीह की आज्ञाओं का पालन करना चाहिए: "इसलिए जाओ और सब राष्ट्रों के लोगों को मेरा चेला बनना सिखाओ और उन्हें पिता, बेटे और पवित्र शक्‍ति के नाम से बपतिस्मा दो। और उन्हें वे सारी बातें मानना सिखाओ जिनकी मैंने तुम्हें आज्ञा दी है। और देखो! मैं दुनिया की व्यवस्था* के आखिरी वक्‍त+ तक हमेशा तुम्हारे साथ रहूँगा" (मत्ती २८:१९,२०) (BAPTISM SAVES)।

यीशु मसीह की मृत्यु की स्मृति कैसे मनाएं?

"मेरी याद में ऐसा ही किया करना"

(ल्यूक २२:१९)

SOLA SCRIPTURA

यीशु मसीह की मृत्यु के स्मरणोत्सव का उत्सव बाइबिल के फसह के समान होना चाहिए, जो विश्वासयोग्य मसीहियों के बीच, मण्डली या परिवार में होता है (निर्गमन १२:४८, इब्रानियों १०:१, कुलुस्सियों २:१७; कुरिन्थियों ११:३३)। फसह के उत्सव के बाद, यीशु मसीह ने अपनी मृत्यु के स्मरण के भविष्य के उत्सव के लिए पैटर्न निर्धारित किया (ल्यूक २२:१२-१८)। वे इन बाइबिल मार्ग में हैं, सुसमाचार:

- मत्ती २६:१७-३५।

- मरकुस १४:१२-३१।

- ल्यूक २२:७-३८।

- जॉन अध्याय १३ से १७।

फसह समारोह के बाद, यीशु मसीह ने इस समारोह को दूसरे के साथ बदल दिया: मसीह की मृत्यु की स्मृति (जॉन १:३६-३६, कुलुस्सियों २:१७, इब्रानियों १०:)।

इस परिवर्तन के दौरान, यीशु मसीह ने बारह प्रेरितों के पैर धोए। यह उदाहरण के लिए एक शिक्षण था: एक दूसरे के लिए विनम्र होना (जॉन १३:४-२०)। फिर भी, इस कार्य को स्मरणोत्सव से पहले अभ्यास करने का एक अनुष्ठान नहीं माना जाना चाहिए (जॉन १३:१० और मत्ती १५:१-११ से तुलना करें)। हालांकि, कहानी हमें बताती है कि उसके बाद, यीशु मसीह ने "अपने बाहरी कपड़ों पर डाल दिया"। इसलिए हमें ठीक से कपड़े पहनने चाहिए (यूहन्ना १३: १० ए, १२; मत्ती २२: ११-१३; से तुलना करें)। वैसे, यीशु मसीह के निष्पादन स्थल पर, सैनिकों ने उस शाम को पहने हुए कपड़े छीन लिए। यूहन्ना १ ९: २३,२४: "जब सैनिकों ने यीशु को काठ पर ठोंक दिया, तो उन्होंने उसका ओढ़ना लिया और उसके चार टुकड़े करके आपस में बाँट लिए। हर सैनिक ने एक टुकड़ा लिया। फिर उन्होंने कुरता भी लिया, मगर कुरते में कोई जोड़ नहीं था बल्कि यह ऊपर से नीचे तक बुना हुआ था। इसलिए उन्होंने एक-दूसरे से कहा, “हम इसे नहीं फाड़ेंगे बल्कि चिट्ठियाँ डालकर तय करेंगे कि यह किसका होगा।”  यह इसलिए हुआ ताकि शास्त्र की यह बात पूरी हो, “वे मेरी पोशाक आ"। सैनिकों ने इसे फाड़ने की भी हिम्मत नहीं की। समारोह के महत्व के अनुरूप, यीशु मसीह ने गुणवत्ता वाले कपड़े पहने। बाइबल में अलिखित नियमों को स्थापित किए बिना, हम पोशाक (कैसे इब्रानियों ५:१४) के बारे में अच्छा निर्णय लेंगे।

यहूदा इस्करियोती ने समारोह से पहले छोड़ दिया। यह दर्शाता है कि यह समारोह केवल वफादार ईसाइयों (मत्ती २६:२०-२५, मार्क १४:१७-२१, जॉन १३:२१-३० के बीच मनाया जाना है, ल्यूक की कहानी हमेशा कालानुक्रमिक नहीं है, लेकिन ""तार्किक क्रम";ल्यूक २२:१९-२१ और ल्यूक १:३ की तुलना "शुरू से, उन्हें एक तार्किक क्रम में लिखने के लिए।"; १ कुरिन्थियों ११:२८-३३))।

स्मरणोत्सव के समारोह का वर्णन बड़ी सरलता के साथ किया जाता है: " जब वे खाना खा रहे थे, तो यीशु ने एक रोटी ली और प्रार्थना में धन्यवाद देकर उसे तोड़ा और चेलों को देकर कहा, “लो, खाओ। यह मेरे शरीर की निशानी है।” फिर उसने एक प्याला लिया और प्रार्थना में धन्यवाद देकर उन्हें दिया और कहा, “तुम सब इसमें से पीओ क्योंकि यह मेरे खून की निशानी है, जो करार को पक्का करता है और जो बहुतों के पापों की माफी के लिए बहाया जाएगा। मगर मैं तुमसे कहता हूँ, अब से मैं यह दाख-मदिरा उस दिन तक हरगिज़ नहीं पीऊँगा, जिस दिन मैं अपने पिता के राज में तुम्हारे साथ नयी दाख-मदिरा न पीऊँ।”  आखिर में उन्होंने परमेश्‍वर की तारीफ में गीत* गाए और फिर जैतून पहाड़ की तरफ निकल गए" (मत्ती २६:२६-३०)। यीशु मसीह ने इस समारोह का कारण बताया, उनके बलिदान का अर्थ, अखमीरी रोटी क्या दर्शाती है, उनके पापरहित शरीर का प्रतीक और कप, उनके रक्त का प्रतीक। उन्होंने पूछा कि उनके शिष्य हर साल निसान (यहूदी कैलेंडर माह) के १४ वें दिन (ल्यूक २२:१९) उनकी मृत्यु की स्मृति मनाते हैं।

जॉन के सुसमाचार ने हमें इस समारोह के बाद मसीह के शिक्षण की सूचना दी, शायद जॉन १३:३१ से जॉन १६:३० तक। जिसके बाद, जॉन क्राइस्ट १७ के अनुसार, यीशु मसीह ने अपने पिता से प्रार्थना की। मत्ती 26:30, हमें सूचित करता है: "आखिर में उन्होंने परमेश्‍वर की तारीफ में गीत गाए और फिर जैतून पहाड़ की तरफ निकल गए"। यह संभावना है कि स्तुति का गीत यीशु मसीह की प्रार्थना के बाद हुआ।

समारोह

हमें मसीह के मॉडल का पालन करना चाहिए। समारोह को एक व्यक्ति, ईसाई मण्डली के एक पुजारी द्वारा आयोजित किया जाना चाहिए। यदि यह समारोह परिवार की स्थापना में आयोजित किया जाता है, तो यह परिवार का ईसाई प्रमुख होता है जिसे इसे अवश्य मनाना चाहिए। यदि कोई पुरुष नहीं है, तो समारोह का आयोजन करने वाली ईसाई महिला को वफादार बूढ़ी महिलाओं (टाइटस २:३) से चुना जाना चाहिए। उसे अपना सिर ढंकना होगा (१ कुरिन्थियों ११: २-६)।

जो लोग समारोह का आयोजन करेंगे, वे इस परिस्थिति में बाइबिल के उपदेश का फैसला गोस्पेल की कहानी के आधार पर करेंगे, शायद उन पर टिप्पणी करके। स्तुति को अपने पुत्र यीशु मसीह के लिए "भगवान की पूजा" और "श्रद्धांजलि में" गाया जा सकता है।

रोटी के बारे में, अनाज के प्रकार का उल्लेख नहीं किया गया है, हालांकि, इसे बिना खमीर के बनाया जाना चाहिए (बिना खमीर की रोटी कैसे बनाये (वीडियो))। जैसा कि शराब के लिए, कुछ देशों में यह संभव है कि वफादार ईसाई नहीं कर सकते हैं। इस असाधारण मामले में, प्राचीन यह तय करेंगे कि इसे बाइबल के आधार पर सबसे उपयुक्त तरीके से कैसे प्रतिस्थापित किया जाए (जॉन १९:३४)। यीशु मसीह ने दिखाया है कि कुछ असाधारण स्थितियों में, असाधारण निर्णय किए जा सकते हैं और यह कि भगवान की दया इस परिस्थिति में लागू होगी (मत्ती १२:१-८)।

समारोह की सटीक अवधि का कोई बाइबिल संकेत नहीं है। इसलिए, यह वह है जो इस घटना को आयोजित करेगा जो अच्छा निर्णय दिखाएगा, जैसे मसीह ने इस विशेष बैठक को समाप्त कर दिया है। समारोह के समय के बारे में एकमात्र महत्वपूर्ण बाइबिल बिंदु निम्नलिखित है: यीशु मसीह की मृत्यु की स्मृति को "दो शाम के बीच" मनाया जाना चाहिए: १३/१४ के सूर्यास्त के बाद "निसान", और उससे पहले सूर्योदय। यूहन्ना १३: ३० हमें सूचित करता है कि जब यहूदा इस्करियोती समारोह से कुछ देर पहले रवाना हुआ, "यह अंधेरा था" (निर्गमन १२:६)।

यहोवा परमेश्वर ने बाइबल के फसह के विषय में यह नियम निर्धारित किया था: "तब महायाजक ने यह कहते हुए अपना चोगा फाड़ा, “इसने परमेश्‍वर की निंदा की है! अब हमें और गवाहों की क्या ज़रूरत है? देखो! तुम लोगों ने ये निंदा की बातें सुनी हैं। तुम्हारी क्या राय है?” उन्होंने कहा, “यह मौत की सज़ा के लायक है।” (...) उसी घड़ी एक मुर्गे ने बाँग दी। तब पतरस को यीशु की वह बात याद आयी, “मुर्गे के बाँग देने से पहले, तू तीन बार मुझे जानने से इनकार कर देगा।” और वह बाहर जाकर फूट-फूटकर रोने लगा" (मत्ती २६:६५-७५, भजन ९४:२० "वह डिक्री द्वारा दुर्भाग्य को आकार देता है"। यूहन्ना १: २ ९ -३६, कुलुस्सियों २:१७, इब्रानियों १०: १; परमेश्वर अपने पुत्र यीशु मसीह, आमीन के माध्यम से पूरी दुनिया के वफादार मसीहियों को आशीर्वाद देते हैं।

ईश्वर की प्रतिज्ञा

बाइबिल के शिक्षण

क्या करना है?

मुख्य

ईश्वर की प्रतिज्ञा

अंग्रेजी: http://www.yomelyah.com/439659476

फ्रेंच: http://www.yomelijah.com/433820451

स्पेनिश: http://www.yomeliah.com/441564813

पुर्तगाली: http://www.yomelias.com/435612656

मुख्य मेनू:

अंग्रेजी: http://www.yomelyah.com/435871998

फ्रेंच: http://www.yomelijah.com/433820120

स्पेनिश: http://www.yomeliah.com/435160491

पुर्तगाली: http://www.yomelias.com/435612345

TWITTER

FACEBOOK

FACEBOOK BLOG